Socialduty

दुर्घटना से बचें और बचाये.

दोस्तों इस धरती पर आये दिन दुर्घटना होती रहती है.दुर्घटना का निश्चित आकार नहीं होता है. वह कहाँ कब घट  जाय कुछ अनुमान नहीं लगाया जा सकता है. दुर्घटना क्या है —-एक ही पल में सम्पति, किसी जीव, इंसान का नस्ट होना या नुकसान होना दुर्घटना कहलाती है. दुर्घटना इस धरती पर अचानक घटती है. […]

Socialduty

रास्ते बनाये.

दोस्तों मानव जीवन इस धरती पर सबसे बेहतर माना जाता है. जीवन का मूल उदेश्य क्या है यह अभी तक ज्ञात नहीं है. लोग आते है चले जाते है. जीवन रूकता नहीं चलता रहता है. प्यारे दोस्तों भारत जैसा देश जहाँ 135करोड़ की आबादी है.अगर हम यह माने की हमारा जन्म विकसित देश में हुआ […]

Socialduty

गतिशीलता और जीवमण्डल

दोस्तों जीवमण्डल क्यों बना यह प्रश्न काफी जटिल है. धर्मशास्त्र और विज्ञान इसकी अलग अलग व्याख्या करते है. जीव जगत काफी विशाल है. बहुत से जीव अभी भी है ,जिनका खोज अभी जारी है . जीव जगत में मानव ही सर्बश्रेष्ठ विकसित प्राणी है .समुद्र में और धरती पर अभी बहुत जीव है जिनकी पहचान […]

Socialduty

बदलता भारत का रूप.

भारत 1947में आजाद हुआ. शुरू में तो बड़ी परेशानी थी. 1965तक भारत भूखा बेहाल था. परिस्थिति ने करवट बदली हरित क्रांति हुई .धीरे धीरे सब कुछ में बदलाव होने लगा. लोग बदले, सोच बदली ,तरीका बदला  , भारत एक नये रास्ते पर निकल पड़ा. परिवर्तन की हवा बहने लगी. आज 2019  में भारत दुनिया का […]

Socialduty

मन की योजना.

दोस्तों आज हम बात करेंगे मन की  योजना के दिशा निर्देश पर.दोस्तों मन में अनेक तरह की कल्पना का जन्म होता है. हमें यह जानना चाहिए कि यथार्थ एवं कल्पना में अंतर होता है. आज जो हमारी सोच होती है  वही आगे चल कर यथार्थ बनता है .अगर हम विचार करें की वह मानव जो […]

Socialduty

बाजारवाद एवं आवश्यकता

आज समस्त संसार  एक गांव के स्वरूप में हो गया है. विश्व में बाजार के नये नये रूप सामने आ रहे है. प्राचीनकाल में बाजार की व्यवस्था बहुत सरल थी. विकास के साथ साथ बाजार व्यवस्था में बदलाव हुआ. बाजारवाद क्या है —-  बस्तुओं  का क्रय  बिक्रय ही बाजारवाद है. आधुनिक बाजार व्यवस्था में मुद्रा […]

Socialduty

जर्मनी का मॉडल

दोस्तों जर्मनी एक विकसित देश है. यहाँ की अर्थव्यवस्था पूँजीवादी अर्थवयवस्था  है.यहाँ के लोगो ने काफी त्याग किया है .आज पूरी दुनिया में स्वार्थ, भटकाव, हिंसा, बिखराव  फैला हुआ है. परिवार ,देश समाज सब में बिखराव हो रहा है. इस देश ने काफी परेशानी देखी  है . 1990 में एक ऐसी घटना घटी, पुरे विश्व […]

Socialduty

किसानों के जीवन में बदलाव कैसे हो.

This book takes a compilation of officebased therapies, conditions, and problems that are commonly detected in clinical and route and rectal surgical practices. One constraint exception might be desflurane with its low serum, although it would be associated to find substantial arguments for viagra online era online using it alone. दोस्तों मानव जीवन बहुत बहुमूल्य […]

Socialduty

जनजातियों को बचाये.

दोस्तों जनजाति पूरी दुनिया के अभिन्न अंग है. आज हम विकसित ,विकासशील, समाज के सदस्य है, अतीत में हम सब जनजाति समाज के अंग थे. यू  तो पूरी दुनिया में जनजाति समाज का आस्तित्व पाया जाता है . आज इनके विस्थापित होने से इनकी परेशानी बढ़ गयी है. पुरे संसार के लोगो का दायित्व है, […]

Socialduty

मन का अनुशासन.

कहा जाता है, कि मन का वेग वायु के वेग से भी तेज चलता है .मन में हर पल अनेक विचार आते रहते है.इन विचारों को नियंत्रित करना पड़ता है.मनो बल  ही सर्बोच्च शक्ति है परन्तु नकारात्मक विचार रोकना भी मानव के हित में होगा. मन बहुत चंचल होता है,एक ही पल  में बहुत कुछ […]