Socialduty

बदलाव को स्वीकारे.

दोस्तों पुरे संसार में बदलाव की प्रक्रिया जारी है. हर दिन नये परिवर्तन हो रहे हैं . इस बदलती दुनिया में अपने आप को तैयार रखे.  हर तरफ नई तकनीक का विकास हो रहा है .परिवार, विवाह ,नातेदारी, सब कुछ में परिवर्तन हो रहा है.आज परिवार टूट रहा है .विवाह के माने बदल रहा है.नातेदारी […]

Socialduty

भोजन में क्या खाये.

दोस्तों यह  विन्दु काफी गंभीर है,  लेकिन हम सब बहुत बड़ी लापरवाही  इसी विन्दु पर करते है.यह एक सच्चाई है,  की अपने देश में  अधिकांश लोगो को बेहतर भोजन नहीं मिलता है .भारत में अभी भी काफी गरीबी है. हमें इसको समाप्त करना होगा  दुनिया में   साधनों का वितरण बहुत असमान  है. कहीं तेल है […]

Socialduty

शक्ति क्या है.

दोस्तों इस संसार में अनेक प्रकार की शक्ति की बात की जाती है .आर्थिक शक्ति   सामाजिक शक्ति ,राजनितिक शक्ति, धार्मिक शक्ति, इच्छा शक्ति, सत्ता की शक्ति, मानव की शक्ति की बात होती है . शक्ति  क्या है — शक्ति एक विचार है, शक्ति एक  साधन है ,शक्ति एक उत्साह  है ,आम तरीके से सत्ता की […]

Socialduty

जीवन के नये रूप को समझना होगा.

दोस्तों जीवन एक यात्रा है .संघर्ष के बिना जीवन का अर्थ समझ में नहीं आता है  सुख और दुःख जीवन के दो पहलू है. इसमें दोनों का महत्व है. इसमें एक के बिना दूसरा अधूरा है  जीवन को अनेक विद्वानो ने अपने तरीके से बताया है. आज भी इस मुद्दे पर शोध जारी है.हम जिस […]

Socialduty

तकनीक का विकास

दोस्तों प्राचीनकाल से मानव तकनीक का उपयोग करता चला आ रहा है .ज़ब से मानव सभ्यता का विकास हुआ. मानव ने अनेक प्रकार की  तकनीक का विकास किया. तकनीक क्या है -वह यन्त्र  जिससे कोई कार्य आसानी से किया जा सके,अपने पुराने तरीके से अलग हो.आज पुरे संसार में विज्ञान बहुत ऊंचाई  पर  पहुँच  चुका  […]

Socialduty

आज का जीवन

आज का जीवन –  दोस्तों  आज कल का  जीवन तनाव भरा रहता है. कुछ तनाव तो परिस्थितियों  के कारण होता है, कुछ तनाव तो हम पाल लेते है.आज हर तरीके के जीवन में तनाव बरकरार है.  ऐसे में इंसान क्या करे?हम धीरे धीरे उत्तर  आधुनिक समाज की तरफ बढ़  रहे है. दुनिया के बहुत देश […]

Socialduty

गरीबी क्यों है भाग 2.

दोस्तों  गरीबी जैसे अशुभ पर विचार करें तो पाते है कि  यह बदला जा सकता है. गरीबी भगवान कि देन   नहीं है. जीवन में हम देखते  है कि एक इंसान छप्पन  भोग खा  रहा है, और एक इंसान दो वक्त कि रोटी के लिए तरश रहा है . अगर इस पर विचार करें तो पता […]