Socialduty

Rain and society.

Rain and society. —वर्षा का जीवन में बड़ा महत्व है. धरती के विकास  में वर्षा का बहुत योगदान है. भारत में कृषि मानसून पर निर्भर है. हर साल भारत में आधे से अधिक राज्य बाढ़  की चपेट में रहते है. वरसात पुरे संसार में कहीं कम तो कहीं अधिक होता है. यह प्रकृति का नियम […]

Socialduty

Hardwork and society.

Hardwork and society. यह धरती जीवन के कई रहस्यों को छुपाये हुए है. इस धरती पर अपने कर्म से जीवन जीना पड़ता है. यहाँ कुछ भी आसान नहीं है. परिश्रम से इस धरती पर आप सब कुछ प्राप्त कर सकते है. यही इस संसार का नियम है. यूँ  तो ये संसार बहुत विशाल है. मानव […]

Socialduty

Life with traditional rule and society.

Life with traditional rule and society ——– जीवन और परम्परा एक दूसरे से दोनों जुड़े है. मानव जीवन में परम्परा का महत्व है. पूरी दुनिया में परम्परा के प्रति लगाव पाया जाता है. परम्परा को समग्र रूप में समझने की जरूरत है. परम्परा क्या है ————.  अतीत काल से चली आ रही कुछ विचारधारा एवं […]

Socialduty

Population growth and society.

Population  growth and society  —  —-     दुनिया में हर जगह जनसंख्या वृद्धि से सभी परेशान है. हर कोई यही सोच कर परेशान है कि  आगे क्या होगा. दुनिया बदली लोग बदले, नहीं बदला तो मानव की समस्या का स्वरूप? आज  दुनिया में 2करोड़ से अधिक आबादी के कई शहर है, जहाँ की समस्या बहुत […]

Socialduty

Dream and society.

Dream and society —-                                              बिना सामान्य अनुमान के जीवन नहीं चल सकता है. जीवन में जटिलता बहुत अधिक होती है. मानव का जीवन अनिश्चित होता है, एक पल जो  हम परिकल्पना करते है […]

Socialduty

Abuse and society.

Abuse and society. – जीवन में हर इंसान को अपशब्द से सामना करना पड़ता है. यदि हम यह सोचें कि अपशब्द का हमारे जीवन से कोई जुड़ाव नहीं होगा. हमारा मूल्यांकन ठीक  नहीं है. कठोर शब्दों से हमारा सामना अवश्य होता है. अब मुद्दा है कि इनसे बचें कैसे?  जीवन में बहुत लोग मिलते है […]

Socialduty

Feeling of cleanliness and society.

Feeling of cleanliness  and society — जीवन में साफ सफाई का बड़ा महत्व है. जीवन में अधिकांश बीमारी सफाई से ही समाप्त हो जाती है. यदि जीवन में भावना भी साफ सुथरी हो तो जीवन में अधिकांश समस्या का समाधान अपने आप हो जाता है. सामान्य जन जीवन में हम सब  इन विन्दु पर ध्यान […]

Socialduty

Truth and society.

Truth  and society ——                              मानव की परिकल्पना में सत्य बहुत कठोर होता है. सत्य भगवान का रूप होता है. बाइबिल में कहा गया है सत्य मानव को परमात्मा से जोड़ता है. सत्य इतना व्यापक होता है कि इसका सटीक अनुमान लगाना […]