Socialduty

Electricity and society.

Electricity and society. —–== ऊर्जा मानव के जीवन के लिये बहुत उपयोगी है. विद्युत भी एक ऊर्जा है. यह मानव के भौतिक विकास के लिये आवश्यक है. अतीत में जब से आग का अविष्कार हुआ मानव ने लगातार विकास किया. आज संसार में जो देश विद्युत का जितना अधिक उपयोग करता है उसे अत्यधिक विकसित […]

Socialduty

Plastic and society.

Plastic and society—–= पालीथीन का मानव जीवन में बहुत अनूठा अविष्कार था पर यह आज मानव के जीवन को दुःख दायी बना रहा है. 2050ई तक समुद्र में मछली से ज्यादा प्लास्टिक की संख्या हो जायेगी. मानव के बहुत उपयोगी वस्तु पालीथीन में पैक होकर सुरक्षित रहती है पर आज यही मानव समाज के लिये […]

Socialduty

Food and society

Food and society. ——-भोजन जीवन का बहुत महत्वपूर्ण अंग है. जीवन में जीव भोजन से ही ऊर्जा प्राप्त करते है. यदि संतुलित भोजन मानव को ना मिले तो मानव कुपोषण का शिकार हो जायेगा. इस धरती पर बहुत सारे ऊर्जा के स्रोत है. पूरी दुनिया में इतने व्यंजन है कि हम उसको गिन भी नहीं […]

Socialduty

Tension and society

Tension and society ——- जब से मानव को सामाजिक संरचना का ज्ञान हुआ है मानव के कार्यों का विभाजन पाया जाता है. अभी तक मानव के कार्यों का विभाजन कब हुआ समाज वैज्ञानिक केवल अनुमान ही लगाते रहे है. मानव के विकास गाथा में बहुत कुछ ऐसा है हम कुछ बिंदु पर अनुमान के ऊपर […]

Socialduty

Responsibility and society.

Responsibility and society —-==जिम्मेदारी कर्तब्य बोध का ज्ञान कराता हैं. इस धरती पर जो जीव मानव के रूप में पैदा हुये हैं उनके साथ कुछ ना कुछ जिम्मेदारी अवश्य रहती हैं. जिम्मेदारी को निभाना व्यक्ति के संवेदना पर निर्भर करता हैं. मानव का कर्तब्य बोध उसे रचनात्मक कार्य करने के लिये प्रेरित करती हैं. वैश्विक […]

Socialduty

Modern entertainment and society.

Modern entertainment and society —आज 2019तक मनोरंजन के पूरे संसार में अनेक साधन उपलब्ध है. उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, अफ्रीका, एशिया, यूरोप, आस्ट्रेलिया में मनोरंजन के स्वरूप अलग अलग पाये जाते है. प्राचीनकाल में मनोरंजन के साधन बहुत सीमित थे. भारत की बात करें तो लोग जुआ, शतरंज, आदि का प्रयोग करते थे. अधिकांश मनोरंजन […]

Socialduty

Crowdness and society.

Crowdness and society. —– भीड़ भाड़ आधुनिक जीवन का हिस्सा है. यह पूरी दुनिया की समस्या है. मानव जीवन आसान हो यह सोच पूरी दुनिया की थी. आधुनिक विश्व में यह अभी नहीं हो सका है. आज विकास वादी सामाजिक व्यवस्था में भीड़ भाड़ जीवन में रच बस गया है. भीड़ क्या है —लोगों के […]

Socialduty

Tripal talak and society.

Tripal talak and society. —ऐसा हम क्यों मानते है कि तीन तलाक केवल भारत के सन्दर्भ में ही खराब है. इसने पूरे संसार में दुःख दिया है. दुनिया में चोटी के 20से अधिक इस्लामिक देश तीन तलाक के प्रथा को समाप्त कर चुके है. इनमे से एक भारत भी है. आज संसार का जो भी […]

Socialduty

Article 370 and Indian society.

Article 370 and Indian society —-जम्मू कश्मीर एक सामान्य रियासत थी. भारत 1947में आजाद हुआ, साथ में पाकिस्तान भी बना. दोनों तरफ के लोगों का नुकसान हुआ. यह नुकसान कितना हुआ अभी भी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है. बहुत लोगों के आशियाने बिखर गये. दोनों तरफ पीड़ा ही पीड़ा थी लेकिन नियति को कौन […]

Socialduty

New India and society.

New India and society. —-भारत आज अपने आप में बदलाव ला रहा है. दुनिया की बहुत सी व्यवस्था में परिवर्तन हुआ है. आज भारत को संसार के साथ तालमेल बना कर संसार को एक नया रास्ता दिखाना है. भारत सांस्कृतिक रूप से बहुत समृद्ध देश है. बहुत सालों के गुलामी के बाद भारत को विश्व […]