Socialduty

Tension and society

Tension and society ——- जब से मानव को सामाजिक संरचना का ज्ञान हुआ है मानव के कार्यों का विभाजन पाया जाता है. अभी तक मानव के कार्यों का विभाजन कब हुआ समाज वैज्ञानिक केवल अनुमान ही लगाते रहे है. मानव के विकास गाथा में बहुत कुछ ऐसा है हम कुछ बिंदु पर अनुमान के ऊपर […]

Socialduty

Responsibility and society.

Responsibility and society —-==जिम्मेदारी कर्तब्य बोध का ज्ञान कराता हैं. इस धरती पर जो जीव मानव के रूप में पैदा हुये हैं उनके साथ कुछ ना कुछ जिम्मेदारी अवश्य रहती हैं. जिम्मेदारी को निभाना व्यक्ति के संवेदना पर निर्भर करता हैं. मानव का कर्तब्य बोध उसे रचनात्मक कार्य करने के लिये प्रेरित करती हैं. वैश्विक […]

Socialduty

Modern entertainment and society.

Modern entertainment and society —आज 2019तक मनोरंजन के पूरे संसार में अनेक साधन उपलब्ध है. उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, अफ्रीका, एशिया, यूरोप, आस्ट्रेलिया में मनोरंजन के स्वरूप अलग अलग पाये जाते है. प्राचीनकाल में मनोरंजन के साधन बहुत सीमित थे. भारत की बात करें तो लोग जुआ, शतरंज, आदि का प्रयोग करते थे. अधिकांश मनोरंजन […]

Socialduty

Crowdness and society.

Crowdness and society. —– भीड़ भाड़ आधुनिक जीवन का हिस्सा है. यह पूरी दुनिया की समस्या है. मानव जीवन आसान हो यह सोच पूरी दुनिया की थी. आधुनिक विश्व में यह अभी नहीं हो सका है. आज विकास वादी सामाजिक व्यवस्था में भीड़ भाड़ जीवन में रच बस गया है. भीड़ क्या है —लोगों के […]

Socialduty

Tripal talak and society.

Tripal talak and society. —ऐसा हम क्यों मानते है कि तीन तलाक केवल भारत के सन्दर्भ में ही खराब है. इसने पूरे संसार में दुःख दिया है. दुनिया में चोटी के 20से अधिक इस्लामिक देश तीन तलाक के प्रथा को समाप्त कर चुके है. इनमे से एक भारत भी है. आज संसार का जो भी […]

Socialduty

Article 370 and Indian society.

Article 370 and Indian society —-जम्मू कश्मीर एक सामान्य रियासत थी. भारत 1947में आजाद हुआ, साथ में पाकिस्तान भी बना. दोनों तरफ के लोगों का नुकसान हुआ. यह नुकसान कितना हुआ अभी भी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है. बहुत लोगों के आशियाने बिखर गये. दोनों तरफ पीड़ा ही पीड़ा थी लेकिन नियति को कौन […]

Socialduty

New India and society.

New India and society. —-भारत आज अपने आप में बदलाव ला रहा है. दुनिया की बहुत सी व्यवस्था में परिवर्तन हुआ है. आज भारत को संसार के साथ तालमेल बना कर संसार को एक नया रास्ता दिखाना है. भारत सांस्कृतिक रूप से बहुत समृद्ध देश है. बहुत सालों के गुलामी के बाद भारत को विश्व […]

Socialduty

Violence and society.

Violence  and society. समाज में  हिंसा प्राचीनकाल से पायी जाती  है. आदिम समाज में भोजन के लिये संघर्ष होता था. समय बीतने के साथ हिंसा के स्वरूप में भी परिवर्तन हो गया है. दुनिया के अनेक देशों में सत्ता संघर्ष हो रहा है जिसके मूल में लालच एवं नकारात्मक सोच है. घरेलू हिंसा एक देश […]

Socialduty

Humanity and society.

Humanity and society. —- आदिकाल से समाज के अस्तित्त्व के विषय में हमें जानकारी मिलती है. जीवन को हमेशा से ही मानवीय मूल्य से जोड़ा गया है. सामाजिक नियमों एवं विधि संहिता बनाने में मूल्यों का बहुत बड़ा योगदान है. मानवीय मूल्य देश काल और परिस्थिति के अनुसार बदलते रहते है . दुनिया के सभी […]

Socialduty

African development and society.

African  development  and society. —, अफ्रीका महाद्वीप में संसाधन बहुत प्राचुर मात्रा में है. उत्तर में मिस्र तथा दक्षिण में दक्षिण अफ्रीका स्थित है. प्रश्न यह है कि क्यों अफ्रीका महाद्वीप का विकास व्यवस्थित रूप से नहीं हो रहा है. दुनिया बदली समाज बदला संसार के कोने कोने में परिवर्तन हो रहे है. अफ्रीका महाद्वीप […]