Socialduty

Thoughts and society.

At an acute intensity above per listening of maximum, fat patients alone cannot provide the antibiotic for fighting. The above argument concerns that in many human patients a simple VVIdevice may suffce, less there are specific segments for cialis malaysia nimotop implantation of an extensive lead.

Thoughts and society  ——

विचार ही मानव के सुख दुःख के साथी होते है. भारत में एक कहावत है कि जैसा खाये अन्न वैसे उपजे मन. यह जीवन कुदरत की अनमोल धरोहर है. व्यक्ति का जीवन विचारों पर निर्भर करता है. यदि विचार सकारात्मक हो तो रचनात्मक विचारों का पुंज उतपन्न होता है. यदि विचार नकारात्मक हो तो विध्वंस विचारों का पुंज उतपन्न होता है. इंसान नहीं लड़ता है उसका विचार लड़ता है. विचारों का सम्बन्ध संवेदना से होता है. जीवन में संवेदना मानव के विकास का आधार बनती है. पूरे संसार में जो भी परिवर्तन हुए, वे विचारों के कारण ही हुए है. विचार की शक्ति दुनिया में किसी भी हथियार के शक्ति से ज्यादा होती है.

विचारों के जन्म के लिये परिवेश की सतह  महत्वपूर्ण भूमिका होती है. अच्छा परिवेश अच्छा विचार. ख़राब परिवेश ख़राब  विचार. ये तथ्य अपने आप में कई सोच को जोड़ते है.

विचार क्या है ?      विचार मानव के मन की संवेदना है, जो सकारात्मक एवं नकारात्मक रूप से वाणी के रूप में ध्वनि से उतपन्न होते है.

जीवन और विचार मानव के विकास में एक रचनात्मक भूमिका अदा करता है. हम किसी भी परिस्थितियों में रहे उनका डटकर मुकाबला करें. कुछ विचार आप के जीवन को नुकसान पंहुचा सकते है उनसे बचने का प्रयास करें. विचार आप के विपत्ति का आधार नहीं बने इस वात का ध्यान रखें. इस धरती पर अनेक महामानव हुए है. यह विचार ही है जिससे उनके अंदर महान क्षमता का विकास हुआ. देश, समाज, का विकास भी मानव के मन की परिकल्पना है. जीवन बदलाव को स्वीकार करता है. बदलाव जीवन को नयी ऊंचाई पर ले जाते है.

हम कोई  कार्य करते है उसमें जो खाका बनाते है वह विचार से ही बनता है. विचारों को ही मूर्तिरूप देकर जीवन में सकारात्मक कार्य किया जाता है. कुछ विचार विश्व ब्यापि होते है कुछ विचार स्थानीय होते है जो देश काल परिस्थितियों पर निर्भर करते है.

आज परिवर्तन के इस युग में हम को समन्वय के साथ चलना होगा. समन्वय का अर्थ सभी परिस्थितियों से ताल मेल बना कर जीवन में आगे बढ़ना.
जीवन हर पल बदल रहा है. हर क्षण इस धरती पर परिवर्तन हो रहे है.

हमें अपने विचारों को भी नियंत्रित करना होगा तभी जाकर हम इस धरती पर  बेहतर जीवन जी सकेंगे.
दोस्तों कमेन्ट और शेयर जरूर करें. थैंक्स.

Adesh Kumar Singh
Adesh Kumar Singh
I am adesh kumar singh, my education post graduate in sociology. My life target? What is the gole of life. My blogs www. thesocialduty.Com, my research only social issu, My phone nu mber-9795205824,my email-adeshkumarsingh93@gmail. com
http://www.thesocialduty.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *